Red Purple Black

एडमिशन लेने वालों का तांता प्रत्येक कॉलेज में लगा

दिल्ली विश्वविद्यालय के कॉलेजों में इस समय पहलीकट-ऑफ के बाद एडमिशन लेने वालों का तांता प्रत्येक कॉलेज में लगा हुआ है। कॉलेज के पास प्रवेश लेने वालों की लगातार बढ़ती भीड़ ने इस गरम माहौल को और अधिक गरमा दिया।लेकिन दिल्ली विश्वविद्यालय के पी.जी.डी.ए.वी.कॉलेज (सांध्य) में एडमिशन लेने आए विद्यार्थियों के लिए यह एक सुखद अनुभव है।यह पहला ऐसा कॉलेज होगा जहाँ विद्यार्थियों को एडमिशन लेते समय आने वाली कठिनाईयों को ध्यान में रखते हुए कॉलेज के प्राचार्य डॉ.रवीन्द्र कुमार गुप्ता ने योजनाबद्ध तरीके से काम किया।उन्होंने जहाँ भीड़ की परेशानी से बचाने के लिए टोकन व्यवस्था को आरम्भ की वहीं प्रवेश के लिए प्रतीक्षा कर रहे प्रतिभागी और उसके परिजनों के बैठने के लिए ए.सी. कक्ष तथा अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराईं। प्रतीक्षा कक्ष में डाक्यूमेंट्री द्वारा कॉलेज की गतिविधियों की जानकारी दी जा रही थी। वहीँ पर माइक की घोषणा और स्क्रीन के जरिए उन्हें टोकन अनुसार आगे भेजा जा रहा था।

इस सम्बन्ध में डॉ.गुप्ता का कहना है कि 'एडमिशन के समय पूरे भारत से विद्यार्थी आते हैं। एडमिशन प्रक्रिया उनके लिए सरल व सुविधापूर्ण हो, यह हमारा दायित्व है, विशेष रूप से दिल्ली के इस मौसम में। यह उन पर मानसिक दबाव भी कम करता है। कॉलेज द्वारा बनायी यह व्यवस्था विद्यार्थियों की किसी भी संख्या को झेलने में सक्षम है।‘

एडमिशन के दौरान एन.सी.सी.केकैडेट्स पूरी प्रक्रिया में विद्यार्थियों का पूरा सहयोग कर रहे हैं।विद्यार्थी को एडमिशन के दौरान कहीं भटकना न पड़े इस के लिए नम्बर द्वारा उन्हें रास्तों और कमरों की जानकारी दी गईहै।इस पूरी व्यवस्था में न तो एडमिशन के दौरान कहीं भीड़ दिखाई दी, न लम्बी कतारें और नही धक्का-मुक्की का माहौल। विद्यार्थी और अभिभावक भी इस व्यवस्था से अति संतुष्ट और प्रसन्न नज़र आ रहे थे।व्यवस्था के कारण जब एक कॉलेज में एडमिशन की प्रक्रिया सुचारू रूप से चल सकती है तो सभी कॉलेज में यह व्यवस्था क्यों नहीं ! सवाल संसाधनों का नहीं, सवाल सोच का है।सही सोच से किसी भी व्यवस्था को सुचारू बनाया जा सकता है और ऐसा ही किया पी.जी.डी.ए.वी.कॉलेज(सांध्य)ने।